मध्य प्रदेश : रंजन गोगोई समिति

मध्य प्रदेश : रंजन गोगोई समिति

  • 11 फरवरी 2016 को मध्य प्रदेश उच्चन्यायालय के न्यायधीश एस के गंगले के विरुद्ध लगे यौन उत्पीड़न के आरोपों की जांच के लिए राज्यसभा के सभापति डॉ. हामिद अंसारी ने बनी समिति का अध्यक्ष उच्चतम न्यायालय के न्यायधीश रंजन गोगोई को बनाया.
  • ज्ञात हो इस नियुक्ति से पूर्व विक्रमजीत सेन को इस समिति का अध्यक्ष चुना गया था. परन्तु वर्ष 2015 के दिसम्बर माह में सेन पद से सेवानिवृत्त हो गए थे.
  • तत्पश्चात महान्यायवादी मुकुल रोहतगी ने ऐसा विचार व्यक्त किया था कि 31 दिसंबर को न्यायधीश सेन के सेवानिवृत्त होने के बावजूद उन्हें जांच पैनल का प्रमुख बनाए रखा जा  सकता है, क्योंकि 1968 की न्यायधीशों के विरुद्ध जांच कानून में इस बारे में कुछ भी नहीं कहा गया है.
  • इस स्थिति पर फैसला लेने की जिम्मेदारी राज्यसभा के सभापति हामिद अंसारी पर छोड़ गई थी.
  • सेन की अध्यक्षता के सन्दर्भ में कानून मंत्रालय ने कहा था कि सेन को उच्चतम न्यायलय के न्यायधीश होने के कारण समिति का अध्यक्ष बनाया गया था.
  • विदित हो विक्रमजीत सेन की अध्यक्षता में गठित समिति में कलकत्ता उच्चन्यायालय के मुख्य न्यायाधीश मंजुला चेलुर और उच्चतम न्यायलय के वरिष्ठ वकील केके वेणुगोपाल  सदस्य होंगे.

Leave a Comment

Your email address will not be published.