महू

The Prime Minister, Shri Narendra Modi launching the “Gram Uday se Bharat Uday” Abhiyan, in Mhow, Madhya Pradesh on April 14, 2016. The Union Minister for Social Justice and Empowerment, Shri Thaawar Chand Gehlot, the Chief Minister of Madhya Pradesh, Shri Shivraj Singh Chouhan and other dignitaries are also seen.

प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी ने आज भारतीय संविधान के निर्माता बाबा साहेब अम्‍बेडकर की 125वीं जयंती पर महू में उनकी जन्‍मस्‍थली पर उन्‍हें पुष्‍पांजलि अर्पित की।

प्रधानमंत्री ने इसके बाद महू में आयोजित एक सार्वजनिक सभा में ‘ग्राम उदय से भारत उदय अभियान’ का शुभारंभ किया। प्रधानमंत्री ने कहा कि यह उनका सौभाग्‍य है कि वह इस शुभ दिवस पर महू में हैं। उन्‍होंने इस अवसर पर यह स्‍मरण किया कि डॉ. अम्‍बेडकर ने समाज में अन्‍याय के खिलाफ लड़़ाई लड़ी थी। प्रधानमंत्री ने कहा कि उन्‍होंने समानता और सम्‍मान के लिए लड़ाई लड़ी थी।

प्रधानमंत्री ने कहा कि 14 अप्रैल से लेकर 24 अप्रैल, 2016 तक चलने वाले ग्राम उदय से भारत उदय अभियान’ के तहत गांवों में होने वाले विकास कार्यों पर ध्‍यान केंद्रित किया जाएगा। उन्‍होंने कहा कि इस साल का केंद्रीय बजट किसानों और गांवों को समर्पित है। उन्‍होंने कहा कि विकास की पहलों को ग्रामीण विकास पर केंद्रित होना चाहिए।

केंद्र सरकार द्वारा की गई कुछ महत्‍वपूर्ण विकास पहलों का उल्‍लेख करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि 1000 दिनों की समय सीमा के भीतर उन 18000 गांवों का विद्युतीकरण किया जा रहा है, जो बिजली की सुविधा से वंचित हैं। उन्‍होंने कहा कि ‘गर्व’ एप के जरिये लोग इस लक्ष्‍य की प्राप्ति में हो रही प्रगति का अवलोकन कर सकते हैं। उन्‍होंने कहा कि गांवों में डिजिटल कनेक्टिविटी आवश्‍यक है।

The Prime Minister, Shri Narendra Modi garlands the bust of Babasaheb Dr. B.R. Ambedkar, at Bhim Birthplace Memorial (Bhim Janma Bhoomi), in Mhow, Madhya Pradesh on April 14, 2016.

प्रधानमंत्री ने किसानों की आय दोगुनी करने के उद्देश्‍य का उल्‍लेख किया और कहा कि ग्रामीणों की क्रय क्षमता को निश्चित तौर पर बढ़ाना है, क्‍योंकि इससे भारत की अर्थव्‍यवस्‍था को नई गति मिलेगी। उन्‍होंने कहा कि पंचायती राज से जुड़े संस्‍थानों को और ज्‍यादा मजबूत एवं और ज्‍यादा जीवंत बनाया जाना चाहिए।

‘ग्राम उदय से भारत उदय अभियान’ : संक्षिप्त परिचय

•  ये अभियान 14 अप्रैल से 24 अप्रैल 2016 तक चलेगा.

• इस अभियान का लक्ष्य गांवों में सामाजिक सौहार्द बढ़ाने, पंचायती राज को मजबूत करना और ग्रामीण विकास को प्रोत्साहन देना और गरीबों के लिए किसानों के कल्याण और आजीविका को प्रोत्साहन देना है.

• इस अभियान को प्रत्येक ग्राम में लोग आसानी से सुन सके इस बात का विशेष ध्यान रखा जाएगा. इस कार्यक्रम के दौरान हर अधिकारी इस दौरान ग्राम में जाकर लोगो से मुलाक़ात करेंगे.

• अभियान के दौरान विभिन्न पंचायत स्तर और राष्ट्रीय स्तर के कार्यक्रम देश भर में आयोजित किया जाएगा.

अभियान के अंतर्गत पंचायत स्तर पर होने वाले कार्यक्रम

सामाजिक एकता कार्यक्रम: 14 से 16 अप्रैल 2016

•  सभी ग्राम पंचायतों में बाबा साहब अम्बेरडकर की 125वीं जयंती के उपलक्ष्य में ग्रामवासी डॉ. अम्बे्डकर के प्रति श्रद्धा व्यक्त करेंगे और सामाजिक समरसता को मजबूत करने का संकल्प लेंगे.

•  बाबा साहब के जीवन और राष्ट्रीय एकता के उनके विचारों पर चर्चा की जायेगी और बाबा साहब से संबंधित साहित्य का वितरण किया जाएगा.

•  इस दिन सामाजिक समानता को बढ़ावा देने के लिए सरकार द्वारा संचालित योजनाओं की जानकारी दी जाएगी. इस दौरान प्रदर्शनियां भी लगाई जाएंगी.

ग्राम किसान सभा 17 अप्रैल से 20 अप्रैल 2016

•   इस दौरान हर ग्राम पंचायत में किसान सभा का आयोजन किया जाएगा.

•   किसान सभा में कृषि क्षेत्र की योजनाओं के संबंध में जानकारी दी जाएगी.

•   कृषि को बढ़ावा देने के लिए किसानों से सुझाव भी लिए जाएंगे.

ग्राम सभा 21 अप्रैल से 24 अप्रैल 2016

•  राष्ट्रीय पंचायती राज दिवस मनाने के लिए  प्रत्येक ग्राम पंचायत में 21 अप्रैल से 24 अप्रैल के बीच किसी भी दिन ग्राम सभा का आयोजन किया जायेगा.

•  24 अप्रैल को जमशेदपुर में पंचायती राज दिवस मनाया जायेगा और राष्ट्रीय स्तर के इस कार्यक्रम में देश के सभी राज्यों से लगभग 3,000 पंचायत प्रतिनिधि भाग लेंगे.

Leave a Comment

Your email address will not be published.